Skip to main content

how to increase confidence आत्मविश्वास को कैसे बढ़ाएं

how to increase confidence

how to increase confidence,अपने अंदर के confidence को कैसे बढ़ाएं

how to increase confidence

अपने अंदर के confidence को कैसे बढ़ाएं


 how to increase confidence आप अपने आप को कोई भी काम करने के काबिल बनाएं अगर आप काबिल होंगे talented होंगे तो बिना कुछ किए आपके अंदर confidence आ जाएगा

how to increase confidence पहले तो हमें समझना पड़ेगा confidence और over confidence में क्या फर्क होता है क्योंकि हमें यहां पर confidence को बढ़ाना है ना कि over confidence को
तो over confidence किसे कहते हैं

जैसे कि आपको कोई काम नहीं आता और आप बोलते हो कि हां मुझे आता है और में आसानी से कर लूंगा
इसे कहते है over confidence




तो जब हम कोई भी काम की शुरुआत करने जाते हैं या किसी से भी मिलने जाते है तो हमको हमारे ऊपर विश्वास क्यों नहीं होता हम पूरे तरीके से confidence क्यों नहीं होते?


 इसके सबसे बड़े तीन कारण है



1। हमको लगता ही नहीं कि हम उस काम को कर पाएंगे अपने ऊपर आपको विश्वास ही नहीं होता क्योंकि शायद आप पहली बार कर रहे हो या फिर इससे पहले आपने कोई इतना बड़ा काम नहीं किया


तो उसका यह solution है आपने पहले अपनी life में ऐसे बोहोत से ऐसे काम किए होंगे जिनमें आपको लगता ही नहीं था कि आप कर पाओगे और फिर अपने उसको सब से अच्छे तरीके से किया
ऐसा काम जो कि आपको लगता था कि ये मेरे लिए करना impossible
है फिर बाद में आप ही ने बिना किसी की मदद के उस काम को करके दिखाया था

आपकी life कि जो बड़ी-बड़ी achievements है उनको याद कीजिए और यह सोचिए कि जब मैंने उस टाइम पर करके दिखाया था तो आज भी मैं कर सकता हूं

how to increase confidence


 इससे आपके अंदर एक अलग ही level का confidence आ जाएगा



2। क्योंकि हम बार-बार उस काम की  negative साएड और उस काम से होने वाले नुकसान को देखते हैं




यह तो वही बात हो गई कि लड़ने से पहले ही आपने हथियार डाल दिए

हमारे अंदर confidence ना होने का यह भी एक बड़ा कारण है  कि कुछ भी चालू करने से पहले ही हम यह सोचने लगते हैं कि इस में इतना  competition है 
इसके लिए तो मुझे इन चीजों की जरूरत पड़ेगी बहुत टाइम लग सकता है
हम ये भी सोचते हैं कि अगर मैं नहीं कर पाया तो मुझे इतना नुकसान हो जाएगा

जबकि हमें सोचना चाहिए अगर मैं  successful हो गया और काम अच्छे तरीके से हो गया तो मुझे कितना फायदा होगा

 जब तक हम negative सोचना बंद नहीं करेंगे तब तक हमारे अंदर confidence नहीं आएगा

confidence जो है वह हमारी सोच के ऊपर depend करता है
तो हमेशा बड़ा सोचे और positive रहें


3 हमें यह तो पता होता है कि हमें क्या करना है किस field में जाना है लेकिन उस चीज की शुरुआत कहां से करनी है ?और exactly हमें  start कहां से करना है?जब तक हमें practically कैसे चालू करना है यह पता नहीं होगा तब तक हमारे अंदर confidence कैसे आएगा




जो भी कुछ काम आप चालू करने वाले हो जब तक आपके पास उसकी 100% जानकारी नहीं होगी

 या आपको उस काम का कोई  experience ही नहीं होगा  कुछ पता ही नहीं होगा
तो उस काम को लेकर आपके अंदर कोई excitement ही नहीं होगी

और जब आप अपने काम को लेकर excited  ही नहीं हो तो फिर confidence कहां से आएगा एकदम सीधी सी बात है

तो जब आपके पास पूरी की पूरी जानकारी होगी कि कैसे करना है कहां से शुरू करना है तो आपके अंदर confidence automatically आ जाएगा

और किसी काम की आपको कोई समझ नहीं है या आपको आता नहीं है लेकिन फिर भी उस में इनकम अच्छी है इसलिए आप करना चाहते हो
तो ऐसे में आपके अंदर    confidence  बिल्कुल नहीं आएगा

पहले तो आपको उस काम को सीखना पड़ेगा उसके बाद practice करनी पड़ेगी और फिर आप चालू कर सकते हो और ऐसा करोगे तो confidence automatically  आएगा लाने की जरूरत नहीं पड़ेगी आपको

और हर एक काम को करने का एक  process होता है एक तरीका होता है आपको बस वह process पता करना है और एक बार आपको process पता चल गया उसके बाद आपको सब कुछ साफ-साफ दिखने लगेगा कि करना कैसे हैं और आपके अंदर confidence भी आ जाएगा


और सबसे बड़ी बात काम के अंदर गलतियां हर इंसान से होती है लेकिन जब भी हम कोई गलती करते हैं तो हम निराश हो जाते हैं दुखी हो जाते हैं और इससे जो हमारा confidence level है वह नीचे आ जाता है तो इसमें डरने वाली और दुखी होने वाली कोई बात नहीं है क्योंकि गलतियां हर इंसान से होती है कोई भी पहली बार में कामयाब नहीं हो जाता और हमको अपनी उन गलतियों से सीखना चाहिए और आगे बढ़ना चाहिए



और हमेशा किसी भी काम को करने के लिए तैयार रहिए और अपना एक learning attitude बनाएं और ये सोचे कि मैं दुनिया का मुश्किल से मुश्किल काम भी कर सकता हूं और जो नहीं आता वह सीख सकता हूं



इससे आपके अंदर confidence बढ़ेगा

Comments

Popular posts from this blog

apne andar ke dar ko kaise nikale

apne andar ke dar ko kaise nikale apne andar ke dar ko kaise nikale apne andar ke dar ko nikal ne  के लिए सबसे पहले हमें यह सोचना होगा की दुनिया में डर नाम की कोई चीज होती भी है या नहीं या फिर यह सिर्फ हमारे दिमाग का वहम है 😣।  नौकरी छुटने का डर 😣।   हारने का डर 😣।  नुकसान का डर 😣। बेइज्जती का डर 😣। बीमारी का डर 😣। मौत का डर डर सिर्फ और सिर्फ हमारे अंदर की एक फीलिंग होती है जैसे कि गुस्सा, प्यार, खुशी, दुख यह सब होता है वैसे ही हमारा डर होता है और यह सब हमारे दिमाग की उपज होती है असलियत में इन सब चीजों का दुनिया में कोई अस्तित्व नहीं है जैसा आप अपने दिमाग से सोचोगे वैसा आप feel करोगे तो यह सिर्फ और सिर्फ हमारी एक feeling है कुछ डर हमारे दिमाग के लेवल पर होते हैं और कुछ डर  practical होते हैं Normally  हमारे अंदर कौन-कौन से डर होते हैं डर हमको तब लगता है  जब हमारे पासSolution नहीं होते 1 कि मैंने इतने सालों तक पढ़ाई की है   डिग्री हासिल की है  तो अब मुझे कोई जॉब मिलेगी या नहीं नहीं मिली तो मैं क्या करूंगा   Solution इसके लिए आप पढ़ाई के सा

apni kabiliyat ko kaise pahchane ?

apni kabiliyat ko kaise pahchane ? How to find your talent? apni kabiliyat ko kaise pahchane apni adar kabiliyat ko kaise pahchane  तो आज हम आपको एकदम सीधी और आसान भाषा में बताते हैं आप कोई भी काम करते हो किसी भी field में हो अगर वह काम आप से अच्छा कोई भी नहीं कर पाता तो समझ लीजिए कि वह आपकी काबिलियत है जैसे क्रिकेट के अंदर सचिन तेंदुलकर है तो यह सब जानते हैं कि उनकी जितना अच्छा बैट्समैन और कोई नहीं था वह टाइम पे  दुनिया  में हर एक आदमी unique होता है सबके अंदर कोई ना कोई uniqueness होती है तो अपने अंदर की ओर से uniqueness को पहचानो ऐसा कोई ना कोई काम जरूर होगा जो आपसे अच्छा और कोई नहीं कर पाएगा तो किस काम को आप सबसे अच्छे तरीके से और सबसे बैटर करते हो  वही आपकी uniqueness भी है और वही आपकी काबिलियत भी है तो अपने आप को देखो और अपने आप को समझो कि ऐसा कौन सा काम है जो मुझसे अच्छा और कोई नहीं कर पाएगा  लेकिन आप कोई भी काम अच्छे तरीके से तब कर पाओगी जब आपको उसके अंदर इंटरेस्ट होगा तो अब यह पता कैसे चलेगा कि हमारा इंटरेस्ट किसके अंदर है?? Ri