Skip to main content

Anger Management,How to control anger, अपने गुस्से को कैसे controकरेंl

How to control youre anger, 

अपने गुस्से को कैसे control करें

गुस्से को control करने के जादुई तरीके 



Anger Management,How to control anger, अपने गुस्से को कैसे controकरेंl



अपने गुस्से को कैसे controकरेंl  जैसे कि आपका मोबाइल और कंप्यूटर जब हैंग होने लगता है ठीक से चलता नही  तो सीधी सी बात है आप उसको format करेंगे या restart करेंगे जिससे  उसके अंदर का  पुराना और  बेकार का कचरा निकल जाएगा
और फिर वह बहुत ही आसानी से चलेगा


तो आपने कभी सोचा है कि आप अपने life में भी इस चीज को क्यों नहीं इस्तेमाल करते

जैसे कि हम किसी व्यक्ति या किसी चीज के प्रति पुरानी बातें अपने दिमाग में डाल कर रखेंगे जब भी कोई छोटी सी problem होगी तो हमको तुरंत ही गुस्सा आ जाएगा या तो हम  irritate हो जाएंगे
आपने ध्यान से समझा होगा तो आपको कभी भी किसी नए या अजनबी इंसान पर जल्दी गुस्सा नहीं आता बल्कि जो आपके पुराने लोग हैं दोस्त या परिवार वाले उनके ऊपर जल्दी आ जाता है
क्योंकि हमने पहले से उनके बारे में अपने दिमाग में कुछ बातें डाल रखी है कुछ राय कायम कर रखी है तो सबसे पहले तो आपको पुरानी बातों को भूल ना होगा इससे आपको उनके ऊपर गुस्सा कम से कम आएगा तो सबसे पहले अपने सिस्टम को फॉर्मेट करें बेकार के कचरे को बाहर निकाले

कुछ लोग यह कहते हैं कि हमें गुस्सा बहुत जल्दी आ जाता है हम क्या करें?
लेकिन अगर हम आपसे ये कहे के आपको गुस्सा आता नहीं है आप जानबूझकर सोच समझकर पूरी प्लानिंग से गुस्सा करते हो तो आप क्या कहोगे?
Anger Management,How to control anger, अपने गुस्से को कैसे controकरेंl


आखिर हम गुस्सा करते क्यों है

 • जब कुछ लोग गलतियां करते हैं
 • हमारी बात नहीं सुनते  और अपनी मनमानी करते हैं
 • बार-बार समझाने पर भी नहीं समझते
 •  जब कोई हमें बुरा भला बोलता है या हमारा अपमान करता है

तो हम उन लोगों के ऊपर गुस्सा करते हैं
 और फिर अगर वह हमसे उम्र में बड़े हैं तो हम उनसे नाराज हो जाते हैं
और अगर वह हमसे उम्र में छोटे हैं तो हम उन्हें सजा देते हैं या ग़ुस्सा करते हे 
तो जरा सोच कर देखिए क्या आपने अपने जीवन में कोई गलती नहीं की
आपने कभी किसी को बुरा भला नहीं बोला
 आपने कभी किसी का दिल नहीं दुखाया
क्या कभी ऐसा नहीं हुआ कि आपको बार-बार कोई समझा रहा हो पर आपने उसकी बात ना मानी है
आपने भी कभी ना कभी गलती से या जानबूझकर किसी ना किसी का अपमान जरूर किया होगा चाहे वह भूल से ही क्यों ना हुआ
Anger Management,How to control anger, अपने गुस्से को कैसे controकरेंl

तो क्या आपको अपने ऊपर कभी गुस्सा किया क्या आपने अपने आप को कभी सजा दी क्या
आप कभी अपने आप से नाराज हुए क्या

नहीं हमें अपने आप के ऊपर कभी गुस्सा नहीं आता क्योंकि हम अपने आपसे प्यार करते हैं तो वैसे ही जैसे हम इंसान हैं सामने वाला भी इंसान ही है जैसे आप अपने आप से प्यार करते हो वैसे आपको उससे भी प्यार करना पड़ेगा जिस दिन आप इस चीज को समझ जाएंगे आपको कभी भी गुस्सा नहीं आएगा
जो नियम आपके ऊपर आप लागू करते हो वही नियम सामने वाले के लिए भी रखो
ऐसा नहीं कि मुझसे गलती हो गई तो चलेगा लेकिन सामने वाले से गलती हुई तो नहीं चलेगा यह सोच नहीं होनी चाहिए

जब हम हजारों गलतियां करने के बावजूद अपने आपसे प्यार करते हैं अपने आप को कभी कोसते नहीं अपने आप के ऊपर कभी गुस्सा नहीं करते और अपने आप को माफ कर देते हैं
तो फिर हम सामने वाले को क्यों नहीं माफ कर सकते
वह भी तो हमारी तरह इंसान ही है

और ऊपर हमने इसलिए ऐसा कहा कि आप जानबूझकर और सोच समझकर गुस्सा करते हैं
ना कि आपको आता है


तो आप ध्यान से देखें तो आपको कभी भी अपने से बड़े होने वाले व्यक्ति यानी कि आपके office ke boss, school ke teacher , makan Malik , Koi purana ya bada customer आपको इन सब लोगों पर कभी गुस्सा नहीं आता और अगर इनसे कोई गलती भी हो जाती है तो आप कहते हो

it's ok  no problem


Anger Management,How to control anger, अपने गुस्से को कैसे controकरेंl

तो आपने सोचा इन लोगों पर आपको गुस्सा क्यों नहीं आया क्योंकि आपने गुस्सा किया ही नहीं अगर आप करोगे तो आएगा नहीं करोगे तो नहीं आएगा कि आपके हाथ में है
गुस्सा हमको आता नहीं हम जानबूझकर करते हैं यह तो आपको समझ आ गया होगा

नीचे हम आपको कुछ विकल्प दे रहे हैं कि आपको उस समय क्या करना चाहिए आपको जो सही लगता है आप कर सकते हैं

जब कोई बेवकूफ इंसान गलती करता है या उसको कुछ समझ में नहीं आ रहा है
 • तो अब या तो आप उस पर गुस्सा कीजिए या फिर उसको बारीकी से तब तक समझाइए जब तक उसको दिमाग में नहीं बैठ जाता

जब कोई आपका अपमान करता है यह आपको नीचा दिखाने की कोशिश करता है
 • या तो आप उस पर गुस्सा कीजिए या फिर यह समझ कर उसे ignore कीजिए कि उसकी सोच छोटी है
अब ये आपको तय करना है की समझदारी किसमें है गुस्सा करके उस प्रॉब्लम को बड़ा बनाने में या फिर उस प्रॉब्लम का सलूशन निकाल के उसको खत्म करने में

शायद आप नहीं जानते कि गुस्सा , ईगो, दूसरों से जलन यह सब कैंसर से भी ज्यादा खतरनाक है यह आपको कभी भी जिंदगी में आगे नहीं बढ़ने देंगे आप कभी भी अपनी सफलता के बारे में नहीं सोच पाओगे आप बस इसी चीज में लगे रहोगे दूसरों को नीचा कैसे दिखाए जाए , उनसे बदला कैसे लिया जाए
 जो कि उन चीजों का कोई मतलब नहीं है


आपको यह समझना होगा कि अगर कोई आपको छोटा बोल रहा है तो उसका कारण है कि उसकी सोच छोटी है इसका यह मतलब नहीं कि आप छोटे और कमजोर हो
ऐसे लोगों पर आप को दया आनी चाहिए ना की गुस्सा

Anger Management,How to control anger, अपने गुस्से को कैसे controकरेंl



 हम आपको गुस्से को कंट्रोल करने के कुछ रामबाण तरीके बताएंगे अगर आपने उन्हें अपना लिया तो आप गुस्से को 100% control कर सकते हैं


 • किसी भी परिस्थिति में अपने दिमाग को शांत रखें
 • जल्दी से उत्साहित और जल्दी से दुखी ना हो
 • किसी भी बात के ऊपर तुरंत रिएक्शन ना दे
 • कम से कम बोलें और ज्यादा से ज्यादा सुने
 • दूसरों को माफ करना सीख ले
 • दूसरों से ज्यादा उम्मीद ना रखे क्योंकि जब वह आपकी उम्मीद पर खरे नहीं उतरेंगे तो  आप उनसे नाराज हो जाओगे या उन पर गुस्सा करोगे
 • दूसरों की बातों से आपको फर्क नहीं पड़ना चाहिए जिस दिन आपको दूसरों की बातों से फर्क पड़ना बंद हो जाएगा उस दिन आपको गुस्सा आना भी बंद हो जाएगा

Comments

Popular posts from this blog

apne andar ke dar ko kaise nikale

apne andar ke dar ko kaise nikale apne andar ke dar ko kaise nikale apne andar ke dar ko nikal ne  के लिए सबसे पहले हमें यह सोचना होगा की दुनिया में डर नाम की कोई चीज होती भी है या नहीं या फिर यह सिर्फ हमारे दिमाग का वहम है 😣।  नौकरी छुटने का डर 😣।   हारने का डर 😣।  नुकसान का डर 😣। बेइज्जती का डर 😣। बीमारी का डर 😣। मौत का डर डर सिर्फ और सिर्फ हमारे अंदर की एक फीलिंग होती है जैसे कि गुस्सा, प्यार, खुशी, दुख यह सब होता है वैसे ही हमारा डर होता है और यह सब हमारे दिमाग की उपज होती है असलियत में इन सब चीजों का दुनिया में कोई अस्तित्व नहीं है जैसा आप अपने दिमाग से सोचोगे वैसा आप feel करोगे तो यह सिर्फ और सिर्फ हमारी एक feeling है कुछ डर हमारे दिमाग के लेवल पर होते हैं और कुछ डर  practical होते हैं Normally  हमारे अंदर कौन-कौन से डर होते हैं डर हमको तब लगता है  जब हमारे पासSolution नहीं होते 1 कि मैंने इतने सालों तक पढ़ाई की है   डिग्री हासिल की है  तो अब मुझे कोई जॉब मिलेगी या नहीं नहीं मिली तो मैं क्या करूंगा   Solution इसके लिए आप पढ़ाई के सा

apni kabiliyat ko kaise pahchane ?

apni kabiliyat ko kaise pahchane ? How to find your talent? apni kabiliyat ko kaise pahchane apni adar kabiliyat ko kaise pahchane  तो आज हम आपको एकदम सीधी और आसान भाषा में बताते हैं आप कोई भी काम करते हो किसी भी field में हो अगर वह काम आप से अच्छा कोई भी नहीं कर पाता तो समझ लीजिए कि वह आपकी काबिलियत है जैसे क्रिकेट के अंदर सचिन तेंदुलकर है तो यह सब जानते हैं कि उनकी जितना अच्छा बैट्समैन और कोई नहीं था वह टाइम पे  दुनिया  में हर एक आदमी unique होता है सबके अंदर कोई ना कोई uniqueness होती है तो अपने अंदर की ओर से uniqueness को पहचानो ऐसा कोई ना कोई काम जरूर होगा जो आपसे अच्छा और कोई नहीं कर पाएगा तो किस काम को आप सबसे अच्छे तरीके से और सबसे बैटर करते हो  वही आपकी uniqueness भी है और वही आपकी काबिलियत भी है तो अपने आप को देखो और अपने आप को समझो कि ऐसा कौन सा काम है जो मुझसे अच्छा और कोई नहीं कर पाएगा  लेकिन आप कोई भी काम अच्छे तरीके से तब कर पाओगी जब आपको उसके अंदर इंटरेस्ट होगा तो अब यह पता कैसे चलेगा कि हमारा इंटरेस्ट किसके अंदर है?? Ri

how to increase confidence आत्मविश्वास को कैसे बढ़ाएं

how to increase confidence how to increase confidence अपने अंदर के confidence को कैसे बढ़ाएं  how to increase confidence आप अपने आप को कोई भी काम करने के काबिल बनाएं अगर आप काबिल होंगे talented होंगे तो बिना कुछ किए आपके अंदर confidence आ जाएगा how to increase confidence   पहले तो हमें समझना पड़ेगा confidence और over confidence में क्या फर्क होता है क्योंकि हमें यहां पर confidence को बढ़ाना है ना कि over confidence को तो over confidence किसे कहते हैं जैसे कि आपको कोई काम नहीं आता और आप बोलते हो कि हां मुझे आता है और में आसानी से कर लूंगा इसे कहते है over confidence तो जब हम कोई भी काम की शुरुआत करने जाते हैं या किसी से भी मिलने जाते है तो हमको हमारे ऊपर विश्वास क्यों नहीं होता हम पूरे तरीके से confidence क्यों नहीं होते?  इसके सबसे बड़े तीन कारण है 1। हमको लगता ही नहीं कि हम उस काम को कर पाएंगे अपने ऊपर आपको विश्वास ही नहीं होता  क्योंकि शायद आप पहली बार कर रहे हो या फिर इससे पहले आपने कोई इतना बड़ा काम नहीं किया तो उसका यह solution है आपने पहले अपन